खाँसी के लिए 20 रामबाण घरेलु उपाय


खांसी एक छोटी सी बीमारी है जिससे लोग अक्‍सर परेशान हो जाते हैं. कयोंकि यह सर्दी का मौसम शुरू होते ही छोटे हो या बड़े अपनी चपेट में ले ही लेती है।
इस बीमारी को ठीक करने के लिए घेरेलू उपचार के हजारों तरीके हैं जिनमें अंग्रेजी दवाइयां भी शामिल हैं. लेकिन हम घरेलू उपचार को ज्यादा प्राथमिकता देते हैं क्योंकि खांसी जुखाम के घरेलू उपाय रामबाण का काम करते हैं।
आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ घरेलू उपायों के बारे में।


खाँसी के लक्षण:------
गले में खराश, सीने में दर्द और रक्तसंकुलता। इसके लिए ओवर-द-काउंटर कफ सिरप का उपयोग करने की बजाय आप कुछ प्राकृतिक उपचार अपने रसोई घर में आसानी से उपलब्ध सामग्री का उपयोग करके कर ठीक कर सकते हो।

खांसी के लिए घरेलू टिप्स :--------
सर्दी , जुकाम , खांसी - अदरक रस 2 मिली , तुलसीरस 1 मिली , शहद 5 मिली मिलाकर प्रत्येक 5 घंटे पर लें , ऊपर से गुनगुना पानी लें । 24- 48 घंटे में सर्दी - जुकाम ठीक हो जाता है .

देशी घी 10 ग्राम , अदरक रस 2 मिली . डाई नग काली मिर्च , गुड 5 ग्राम पकाकर खाली पेट सुबह लगातार तीन दिनों तक लें । अन्य किसी दवा की आवश्कता नहीं पड़ेगी ।

भुनी तथा कच्ची बराबर - बराबर अजवायन पीसकर शाम को खा ले और पानी न पिये , खांसी में बहुत जल्दी लाभ होगा ।

एक कप गर्म पानी में एक चम्मच शहद और चुटकी भर काला
नमक मिलाकर हर तीन घंटे पर पिलानी चाहिये ।

खांसी के साथ कब्ज हो तो कब्ज दूर करने के लिए एक से दो गिलास गर्म पानी में एक नींबू का रस और चुटकी भर नमक डालकर मिलाना चाहिये ।

गर्म पानी में नमक डालकर रोगी को गरारा करना चाहिये । इससे गले के खरास में लाभ होगा ।

रोगी को दिन में 2-3 बार भांप लेनी चाहिये ।

यदि सूखी खांसी हो तो दिन में तीन - चार बार एक छोटा चम्मच शहद चाटिए ।

आक की जड़ को आक के दूध में भिगो कर सुखा लें । इसकी धूनी लेने से श्वास आर खासी में आराम होता है ।

हल्दी का खांसी, विशेष रूप से एक सूखी खाँसी पर, एक उपचारात्मक प्रभाव पड़ता है।

आधा कप पानी गरम करें एक उबलते हुए बर्तन में। उसमें एक चम्मच हल्दी पाउडर और एक चम्मच काली मिर्च पाउडर मिलाएँ। आप दालचीनी भी मिला सकते हैं। इसको दो से तीन मिनट के लिए उबाल लें। शहद का एक बड़ा चम्मच इसमे मिलाएँ। इसे दैनिक रूप से पिएं जब तक हालत में सुधार ना हो जाए।

एक और तरीका है हल्दी को उपयोग करने का - हल्दी जड़ को भूनें और एक मुलायम पाउडर के रूप में पीस लें। पानी और शहद के साथ इस मिश्रण को दिन में दो बार पिएं।

खाँसी के लिए अदरक :----
 
अदरक खाँसी के लिए सबसे लोकप्रिय प्राकृतिक इलाजों में से एक है। ताज़ा अदरक को छोटे स्लाइस में काटें और उन्हें थोड़ा पीसें। उन्हें एक कप पानी में डालकर उबाल लें। इस हर्बल समाधान को दिन में तीन से चार बार गले में खराश और लगातार खाँसी से राहत के लिए पिएं। आप इसमे कुछ नींबू का रस और शहद भी मिला सकते हैं।
अपनी खांसी को कम करने के लिए दिन भर में कच्चे ताज़ा अदरक को आप चबा भी सकते है।

नींबू भी खांसी के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। नींबू के गुण सूजन कम कर देते है और संक्रमण से लड़ने वाले विटामिन प्रदान करते हैं।
खांसी की दवाई दो बड़े चम्मच नींबू का रस और एक बड़ा चम्मच शहद के संयोजन के द्वारा बनाई जा सकती है। यह सिरप दिन में कई बार लें।

लहसुन:-----
लहसुन में दोनों जीवाणुरोधी और रोगाणुरोधी घटक हैं जो कि खांसी के इलाज में मदद करते हैं। 
पानी के एक कप में दो से तीन लहसुन की लौंग उबाल लें और एक चम्मच अजवायन मिलाएं। इसके तापमान को शांत होने दें, फिर कुछ शहद मिलाकर पी लें। यह श्वास लेने और अन्य खांसी के लक्षणों को कम करने में मदद करेगा।
पिसी हुई लहसुन, लौंग के तेल की कुछ बूँदें और कुछ शहद को मिलाकर लेने से आपको गले में खराश से राहत मिलेगी।

मुलहठी:-----
पिसी हुई मुलहठी को दो कप पानी में उबालकर एक कप रह जाने पर छानकर चुटकी भर नमक मिला सुबह - शाम कुछ दिनों तक लगातार सेवन से जमा हुआ बलगम निकल जाता है ।

रोगी और स्वस्थ व्यक्ति दोनों को सर्दी के मौसम में दोनों नथुनों में 2-2 बूंद सरसों का तेल डालकर लंबी सांस लेनी चाहिये । इस क्रिया को सुबह और रात को सोने से पहले करनी चाहिये ।

थोडी सी अजवायन खाकर ऊपर से गुनगुना पानी पीने से खांसी से राहत मिलती है ।

काली मिर्च :----
यह कई तरह से आपके काम आती है । यदि खांसी है तो पिसी हुई काली मिर्च में तुलसी के पत्ते और शहद मिला दें और इसे एक चूर्ण की तरह बना कर बार बार चाटें । इससे सूखी व चिड़चिड़ी खांसी से राहत मिलेगी ।

हल्दी :----
छोटी चम्मच हल्दी गर्म दूध में मिला दो। 15 दिनों तक दिन में दो बार पियो। यह खांसी को कम करके बलगम को गले से निकल देता है। यह सर्वश्रेष्ठ उपायों में से एक उपाय है।

10 चम्मच हल्दी पाउडर को 5 चम्मच गुड में अच्छी तरह मिलाकर छोटे आकार की गोलियां बना लो।
यदि आपको बलगम बहुत अधिक हो गया है तो, एक चम्मच देसी घी गर्म दूध में मिलाकर पीयें।

सूखी खांसी में काली मिर्च चूसने से तुरंत लाभ पहुंचता है ।
कफ वाली खांसी में काली मिर्च का प्रयोग पानी में उबालकर करें ।

इसके अतिरिक्त तुलसी के पत्ते या सोंठ पीसकर शहद लगाकर चाटे कफ आर बलगम जड से समाप्त हो जायेगा ।

काली मिर्च का पाउडर 2 ग्राम , छोटी इलायची का चूर्ण एक ग्राम को आधा चम्मच शहद में मिलाकर दिन में तीन बार चटाने से खांसी मे लाभ होता है ।

गले में खराश होने पर मुलहठी का टुकड़ा चूसना चाहिये।

सर्दी के दिनों में रूटिन चाय के बदले निम्न देशी  सामग्री डालकर चाय पीनी चाहिये  जैसे: तुलसी, अदरक, बड़ी इलायची, तेजपत्ता, सौंफ और हो सके तो कुछ बूंदे नींबू का रस भी डाल सकते हो यह चाय सर्दियों में बहुत ही लाभदायक है।


अदरक का रस आधा चम्मच शहद आधा चम्मच आर चुटकी भर काला नमक मिलाकर सुबह दोपहर और रात को खाने के आधा घटा बाद लगातार दस दिनों तक सेवन करना चाहिये ।

गर्भवती महिलाओं को खासी होने पर आधा कप दूध , तीन ग्राम बड़ी इलायची के चूर्ण को आधा कप पानी में उबालकर आधा रह जाने पर उसमें आधा चम्मच शहद मिलाकर सुबह - शाम सेवन कराना चाहिये ।

कुकुर - खासी फिटकरी को तवे पर भून ले और उसे महीन पीस ले । तत्पश्चात् तीन रती फिटकरी के चूर्ण में सममाग चीनी मिलाकर सुबह , दोपहर और शाम को सेवन करने से कुकुर - खांसी ठीक हो जाती है ।

कुकुर - खासी - कुकुरखासी में केले के पत्तों की राख बनाकर शरद् - ऋतु में शहद के साथ तथा ग्रीष्म ऋतु में नमक मिलाकर चटावे ,शीघ लाभ होगा ।

खांसी कई खतरनाक रोगों की जननी है, इसलिए मौसम बदलने के दौरान खांसी लगातार कुछ दिनों तक बनी रहे तो चिकित्सक से मिलकर इसका इलाज कराना चाहिये।

रोगी को चावल, राजमा , उड़द ' की दाल , खट्टा दही , नारियल , चटनी और अचार नहीं देना चाहिये ।

खांसी के रोगी को दूध , मीठे फल , फलों का रस , ग्लूकोज का पानी और सब्जियों का सूप देना चाहिये ।

अदरक के 5 ग्राम रस में 3 ग्राम मधु मिलाकर चाटने से बहुत लाभ होता है ।

काली मिर्च के 3 ग्राम चूर्ण में 3 ग्राम सौंठ का चूर्ण मिलाकर मधु के साथ चाटने से खांसी नष्ट होती है ।


दो ग्राम हल्दी के चूर्ण में थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर मुंह में डालकर ऊपर से हल्का गर्म जल पीने से खांसी का प्रकोप नष्ट होता है ।

तुलसी के पत्तों के 3 ग्राम रस में मिसरी मिलाकर चाटकर खाने से खांसी का प्रकोप शांत होता है ।

यह सारे उपाय आप घर पर रहकर बहुत आसानी से कर सकते हो।
यह सारी वस्तुएं रसोई घर में बहुत आसानी से उपलब्ध हो जाएंगी और अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप अपनों को और अपने दोस्तों को जरुर शेयर करें।

 Disclaimer:---------
All information and articles available on this site are for educational purposes only. The information given here should not be used for diagnosis or treatment of any health related problem or disease without expert advice. A qualified medical practitioner should always be consulted for medical examination and treatment.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ