यादशत कैसे बढाये | increase memory |

यादशत तेज करने के लिए अपनाएं ये शानदार उपाय, भूलने की आदत से भी मिलेगा छुटकारा:------
उम्र बढ़ने पर तो याददाश्त कमजोर होती ही है लेकिन कई बार बच्चों और युवाओं को कुछ चीजें याद रखने में दिक्कत होती है। ऐसे में आप ये उपाय अपना कर अपने दिमाग को तेज कर सकते हैं।

 दिमाग तेज करने के लिए अपनाएं ये रामबाण घेरेलू उपाय --
उम्र बढ़ने पर तो याददाश्त कमजोर होती ही है लेकिन कई बार बच्चों और युवाओं को कुछ चीजें याद रखने में दिक्कत होती है। ऐसे में आप ये उपाय अपना सकते हैं।

एक योग के अनुसार अपने दोनों कानो को पकड़कर उठक-बैठक करने से ब्रेन की बैटरी चार्ज होती है। कान से ब्रेन में एनर्जी का फ्लो होता है। ब्रेन शार्प और कंसंट्रेशन पावर बढ़ता है। किसी भी चीज को आप लम्बे समय तक याद रख सकते हैं विदेशों में तो बकायदा इसको ‘सुपर ब्रेन योग' के नाम पर प्रैक्टिस करवाई जाती है और brain yog के नाम से जाना जाता है।

बच्चों के एग्जाम नजदीक आते ही पेरेंट्स परेशान हो जाते हैं कि आखिर ऐसा क्या करें कि बच्चा पढ़ाई में मन लगाए और पुरी किताबे रट जाये ,लेकिन सभी बच्चों का दिमाग तेज हो यह इतना भी आसान काम नहीं है। बच्चें ही नहीं कई बार बड़े लोग भी चीजों को भूलने लगते हैं। उन्हें कोई भी चीज याद रखने में समस्या होती है। ऐसे में आपको घबराने की जरुरत नहीं है आप चाहे ये आयुर्वेदिक और घरेलू नुस्खे अपनाकर अपनी और अपने बच्चों की यादशत को तेज कर सकते हैं। इससे आपके बच्चे की तेजी से मेमोरी बूस्ट होगी। 
 
घेरेलू उपाय यदाशत के लिए:----- 

1. अधिक से अधिक फल और हरी सब्जियों का सेवन करे।

2. जंकफूड, ऑयली चीजों का सेवन न करे

3. सुबह 4 से 8 बजे तक और शाम को 8 से रात 12 बजे तक पढ़ना सबसे अच्छा होता है।

4. रात के समय हैवी खाना न खाएं।

5. गाय का घी और दूध मे मिलाकर  पीना दिमाग के लिए अच्छा। 

6:-- 5 बादाम और 5 अखरोट के टुकड़े को रात में पानी में भिगो दें। सुबह इन्हें अच्छे से पीसकर ब्राह्मी मिलाएं और दूध के साथ ले लें। 

7. दही में केला या फिर दूध में केला, खजूर खिलाएं

8. ब्राह्मी के पत्ते या पाउडर का सेवन करने से यादशत बढती है। 

9. शहद मलाई या दुध मिलाकर पीएं ।

10. ब्राह्मी,शंकपुष्पी,ज्योतिषमति (मालकांगनी) डालकर पीएं

11. दूध में बादाम रोगन,अखरोट, ब्राह्मी,शंखपुष्पी के पाउडर  के साथ मिलाकर पिये।

12. मेधावटी सुबह-शाम एक-एक गोली लेने से फायदा होता है।

13. कमजोर बच्चों को शतावर का पाउडर वाला दुध पिलायें।

14. दही में केले,दूध में केले, खजूर खिलाएं

15. आंवला का सेवन किसी न
किसी रूप में  सेवन करे।

16. अखरोट गिरी 7से 8 हररोज भिगोकर खाये ।

17. बादाम रोगन दुध मे मिलाकर पिये।

18. मखाने देशी घी में भुनकर पावडर बनाकर रख ले यह सुबह शयाम एक एक चम्मच दुध के साथ सेवन करे।

19. रात को सोते समय त्रिफला चूर्ण 10 ग्राम पानी के साथ लें

20. विद्यार्थियों को खाने में घी दूध और पौष्टिक पदार्थ और प्रोटीन  वाले भोजन  अधिक से अधिक मात्रा में दें।

21.मस्तिषक के पोषण के लिए और कमजोरी को दूर करने के लिए मेहंदी का बीज अठन्नी भर पीसकर शुद्ध शहद के साथ प्रतिदिन तीन बार सेवन करने से दिमाग की कमजोरी दूर हो जाती है और स्मरण शक्ति में इतनी अधिक बढ़ोतरी हो जाती है कि आप हैरान रह जाओगे, और इससे सिर दर्द (माइग्रेन) में भी आराम मिलता है।

22. सूर्योदय से पहले उठकर 5 तुलसी के पत्ते खाकर गिलास पानी पीने से भी स्मरण शक्ति में वृद्धि होती है

23. समरण शक्ति को बढ़ाने के लिए 10 तुलसी के पत्ते 5 कालीमिर्च 5 ग्राम और थोड़ा-सा शहद मिलाकर ठंडाई की तरह पीने से मानसिक शक्ति बढती है।


24. नाक में  दो बुुुदं बादाम रोगन की डालने से याददाश्त बढाने में बहुुत जल्दी मदद मिलती है यह उपाय रामबाण का काम करता है लेकिन दाम रोगन हमेशा शुद्ध और साफ होना चाहिए।

योग बल से स्मरण शक्ति बढाने के उपाय:----

यादशत शक्ती हमारे दिमाग की एक प्रमुख शक्ति है । देखने में सुनने से जो ज्ञान प्राप्त होता है उसे सुरक्षित रखना और फिर समय पर प्रकट करना समृति का कार्य है। किसी भी दृश्य को ग्रहण करने की शक्ति को मेघा भी कहते हैं।
प्रातः काल योगासन प्राणायाम ध्यान आदि नियमित रूप से करने से ध्यान शक्ति को बढ़ाया जा सकता है। किसी भी शान्त स्थान में पद्सासन लगाकर बैठ जाएं और चित्त को स्थिर करते हुए भ्रामरी प्राणायाम करें उसके बाद आंखें बंद करके सांस प्रवास पर ध्यान लगाएं आंखें खोलो और कुछ समय तक नाक की नोक को कुछ सेकेंड तक एकटक देखते रहे और फिर दोनों भोहों को बीच में ध्यान केंद्रित करें। इस क्रिया को बार बार दोहराएं सांस धीमा गहरा और लयबद्ध होना चाहिए। इस तरह करने से फेफड़ों द्वारा समुचित मात्रा में रक्त को ऑक्सीजन प्राप्त होता है।

सूर्य भगवान बुद्धि के स्वामी हैं हर रोज सुबह उठकर सबसे पहले सूर्य भगवान को अर्घ्य दें इस प्रकार करने से स्मरण शक्ति बढ़ती है।
रात को देर तक पढ़ने के बजाय सुबह जल्दी उठकर पढ़ने से ज्यादा जल्दी याद करने की शक्ति बढ़ती है।

अपने विचारों को सकारात्मक बनाए सकारात्मक विचार जीवन को आशावादी बनाते हैं और इससे तनाव से मुक्ति मिलती है।

अपने भोजन में संतुलित आहार और पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन, विटामिन, खनिज लवण व फल ,मौसमी जरूर से ज्यादा लेने चाहिए।
मौसमी, फल, साग सब्जी चौकर युक्त आटे की बनी रोटी से शरीर की प्रतिरोधक शक्ति बढ़ती है।

जिस काम को हम आसानी से कर सकते हैं उस काम को करने के लिए मैं यदि अधिक प्रयास करना पड़े तो यह मस्तिष्क के प्रयोग में ना आने वाले भाग को क्रियाशील करने में सहायक होता है, जैसे: दरवाजा खोलते समय अपने कम उपयोग में आने वाले हाथ का प्रयोग आपकी मेमोरी के किसी दबे हुए भाग को क्रियाशील करने में सहायक हो सकता है।
ब्रश करना, जूते के फीते बांधना ,शर्ट के बटन लगाना, झाड़ू लगाना आदि काम जब आप कम प्रयोग में आने वाले हाथ से करते हैं तो दूसरी तरफ का मस्तिष्क जो कि सामान्य शुप्त अवस्था में पड़ा रहता है अचानक क्रियाशील होता है। यह प्रयोग रामबाण का काम करता है।

इसी प्रकार आप अपनी घड़ी दूसरी कलाई में भी बांध सकते हो इस प्रकार के परिवर्तन से हमारे दिमाग में ऊर्जा का संचार बढ़ जाता है।

प्राकृतिक स्थान में घूमने जाने और देखने से याददाश्त को बढ़ाने में अत्यधिक सहायक है।

इस प्रकार के आप योग प्राणायाम विधि से भी अपनी याददाश्त को बढ़ा सकते हैं यह विधि हमारे शास्त्रों द्वारा बताई गई है।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ