शराब पिनी कैसे छोड़े || शराबी वयक्ति की शराब कैसे छुडवाये || alcohol addiction kese kam kere ||



शराब छुड़वने के लिए आयुर्वेदिक  उपाय-
शराबी पन ऐसी समस्या है  जिसकी वजह से बच्चे, पत्नी और मां बाप  परेशान हो जाते है, क्योंकि यह एक ऐसी बीमारी है इसको झेलना बहुत ही मुश्किल है। शायद इंसान एक रोटी कम खा कर जिंदा रह सकता है पर शराबी के साथ रहना किसी जेल से कम नही है। अगर आपकी जिंदगी में भी कोई व्यक्ति बहुत ज्यादा शराब पीता है तो ये कुछ उपाय करके आप शायद उनको कुछ हद तक कम करवा सकते हो। 100%  कोई गारंटी नहीं है बस थोडा सुधार हो सकता है। क्योंकि इन जड़ी-बूटियोंं का किसी भी तरह का कोई साइड इफेक्ट नहीं है। 

अश्वगंधा (Ashwagandha)--
अश्वगंधा शराबीता और मनोविकारों को कम करने में सहायक हो सकती है। यह तनाव को कम करने, नींद की सुविधा प्रदान करने और मनोवृत्तियों को स्थिर करने में मदद कर सकती है। 

ब्राह्मी (Brahmi): --
ब्राह्मी में मौजूद गुणों की वजह से यह मदिरा की आदत को छोड़ने में सहायक हो सकती है। यह मस्तिष्क को शांति प्रदान करने, मनोविकारों को कम करने और ध्यान को बढ़ाने में मदद कर सकती है।

शंकपुष्पी (Shankhpushpi):--- शंकपुष्पी मदिरा की आदत को कम करने में सहायक हो सकती है। यह तनाव को कम करने, नींद की सुविधा प्रदान करने और मस्तिष्क को ताजगी प्रदान करने में मदद करती है।

जटामांसी (Jatamansi):---
 जटामांसी को शराब की आदत को कम करने के लिए जाना जाता है। यह मनोविकारों को नियंत्रित करने, चिंता को कम करने और तनाव को दूर करने में मदद कर सकती है।

• वचा (Vacha):---
 वचा का उपयोग मदिरा की आदत को कम करने के लिए किया जाता है। यह तनाव को कम करने, मस्तिष्क को ताजगी प्रदान करने और मनोविकारों को नियंत्रित करने में मदद करती है।

अर्जुन (Arjuna): ---
अर्जुन की छाल मदिरा की आदत को कम करने में सहायक हो सकती है। यह हृदय के स्वास्थ्य को बढ़ाने और तनाव को कम करने में मदद कर सकती है।

शतावरी (Shatavari):---
 शतावरी एक स्तनपान वृद्धि के रूप में प्रसिद्ध है, लेकिन इसे शराब की आदत को छोड़ने के लिए भी प्रयोग किया जा सकता है। यह तनाव को कम करने, मस्तिष्क को ताजगी प्रदान करने और मनोविकारों को संतुलित करने में मदद करती है।

ब्रह्मी (Gotu kola):---
 ब्राह्मी मदिरा की आदत को कम करने के लिए उपयोगी हो सकती है। यह मस्तिष्क को ताजगी प्रदान करती है और मनोविकारों को नियंत्रित करने में सहायता करती है।

अर्जुन टी (Arjuna tea): ---
अर्जुन टी अर्जुन की छाल से बनाई जाती है और शराब की आदत को कम करने में सहायक हो सकती है। यह हृदय को स्वस्थ रखने में मदद कर सकती है।

• शराब की आदत को छुड़ाने के लिए आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का उपयोग किया जा सकता है, लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि आप किसी विशेषज्ञ वैद्यकीय व्यक्ति की सलाह लें और विधि को सटीकता से अनुसरण करें। नीचे कुछ ऐसी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां दी गई हैं जो मदिरा की आदत को छोड़ने में मदद कर सकती हैं: 
कुटकी एक प्राकृतिक जड़ी बूटी है जिसे मदिरा की आदत को कम करने के लिए प्रयोग किया जा सकता है। यह पित्त को शांति प्रदान कर सकती है और मनोविकारों को संतुलित करने में मदद करती है।

गुग्गुल (Guggul):----
 गुग्गुल एक औषधीय पौधा है जिसका उपयोग मदिरा की आदत को कम करने के लिए किया जाता है। यह शरीर की प्राकृतिक संतुलन को बढ़ाने, तनाव को कम करने और मस्तिष्क को ताजगी प्रदान करने में मदद कर सकती है।

ब्रह्मी वटी (Brahmi vati): ---
ब्राह्मी वटी शराब की आदत को कम करने में मदद कर सकती है। यह मस्तिष्क को शांति प्रदान करती है और मनोविकारों को संतुलित करने में मदद कर सकती है।

Disclaimer-
ध्यान दें कि ये जड़ी बूटियां केवल सूझाव  के रूप में प्रस्तुत की जा रही हैं और इनका उपयोग करने से पहले आपको एक वैद्यकीय विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। आपके लिए सबसे उपयुक्त और सुरक्षित उपाय की जांच करने के लिए विशेषज्ञ वैद्य की सलाह अवश्य लें।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ