हिचकी कैसे बन्द करें |हिचकी बंद करने के लिए घरेलू उपाय |

हिचकी रोकने के लिए घरेलू उपाय- हिचकी आना एक साधारण बात है कुछ लोग बार-बार हिचकी आने पर बहुत ज्यादा परेशान हो जाते हैं और बहुत कोशिश करने पर भी हिचकी आनी बंद नहीं होती , तो ऐसे में कुछ ऐसे घरेलू उपाय अपना सकते हैं जिनको अपनाकर हम अपनी हिचकी बंद कर सकते हैं। ज्यादातर लोग हिचकी को बंद करने के लिए पानी पीते हैं लेकिन कई बार पानी पीने से भी यह समस्या खत्म नहीं होती।

* हिचकी क्या है - ( what is hiccup ?)

आयुर्वेद के अनुसार वात ,पित,  कप के विकार के कारण शरीर में कोई भी बीमारी बन सकती है। इसी तरह हिचकी वात एवं कफ दोष  के कारण होती हैं। ज्यादातर हिचकी की परेशानी सश्वसन तंत्र विकार के कारण होते हैं लेकिन इसमें पाचन तंत्र की भी में भूमिका होती है। हिचकी  डायफ्रॉम के संकुचन के कारण होती हैं । डायफ्रॉम  वह मांसपेशियां हैं जो पेट से आपकी छाती को अलग करती हैं। यह सांस लेना छोड़ने की प्रक्रिया में एक खास भूमिका निभाते हैं। यदि इसमें संकुचन या दबाव पैदा होता है तो आपकी आवाज निकालने वाली नली अचानक से बंद होकर एक यानी हिचकी की धवनी उत्पन्न करती है और इसे ही हिचकी कहा गया है।

* हिचकी को रोकने रोकने के लिए घरेलू उपाय का इस्तेमाल किया जाता है-

हिचकी आने के कारण-

अभी यह  जानना जरूरी है कि हिचकी हमें क्यों आती है।

* ठंडा आहार का सेवन करना

* बदहजमी की स्थिति में भोजन करना।

* अस्वस्थ भोजन करना।

* तेज वायु, धूल ,धुआं के समपर्क में आने

* ज्यादा भोजन करना या भोजन करते समय बात करना।

* अधिक शराब पीना।

* बहुत देर तक हंसने से व्यक्ति के अंदर अनजाने में हवा चली जाती है, तब भी हिचकी आती है।

* तनाव को दूर करने वाले एक प्रकार की दवा का अधिक सेवन करना ।

*  किसी तरह के तनाव या भावनात्मक रूप से उत्तेजित होने के कारण भी हिचकी आती है।

* हिचकी बंद करने के लिए घरेलू उपाय-

 ऐसी स्थिति में मस्तिष्क को शान्त करने वाले उपचार और वात को नष्ट करने वाली विभिन्न औषधियां हितकारी प्रभाव करती हैं । जिनमें लोग भूनकर मुंह में रखकर चूसनी चाहिए । 

2. तुलसी के पत्तों का रस 10 ग्राम 5 ग्राम शहद में मिलाकर सेवन करने से हिचकी की विकृति नष्ट होती है ।


 3. मूली के ताजे कोमल पत्ते खाने या मूली के पत्तों का रस 10 ग्राम पीने से हिचकी की विकृति नष्ट होती है । 


4. राई एक तोला पानी में पीसकर छानकर पिलायें । हिचकी चाहे . जिस कारण भी आ रही हो , इसके प्रयोग से बन्द हो जायेगी । 


5. मोरपंख को जलाकर दो रत्ती की मात्रा से दिन में तीन बार गुड़ या गन्ने के रस के साथ सेवन करना चाहिए ।


 6. 10 ग्राम गुड़ में थोड़ी - सी हिंग मिलाकर खाने से हिचकियां बंद होती हैं ।


 7. कागजी नीबू के 10 ग्राम रस में शहद और थोड़ा - सा नमक मिलाकर चाटने से वायु का परिवर्तन होने से हिचकी बंद होती है ।


8. हिचकी रोकने के लिए गुनगुने पानी में नींबू और एक चुटकी नमक और पुदीने के रस मिले इस पानी से हिचकी और गैस दोनों में आराम मिलता है। 


8. एक गिलास पानी में दो-तीन इलायची उबालकर पीने से भी हिचकी में बहुत जल्दी लाभ मिलता है.


9.  एक गिलास ठंडा पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर पिए इसे हिचकी जल्दी बंद हो जाती है.


10. हिचकी रोकने के लिए एक चम्मच चीनी को मुंह में रखकर चूस ले फिर  उसके बाद पानी पी ले। 

अगर यह सब उपाय करने के बाद भी आपकी हिचकी शांत नहीं होती तो ऐसे में आपको  बिना कोई लापरवाही न बरते ऐसे में  नजदीकी डॉक्टर से सलाह अवश्य करनी चाहिए। 


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ