अनचाहे बालों के हटाने के लिए रामबाण उपाय ....

आजकल वक्त से पहले लोगों के बाल सफेद होना ,झडना, रुसी आदि समस्या आ रही है, इसके लिए आप अगर समय रहते सचेत हो जाये तो कुछ हद तक इस समस्या से बचा जा सकते है। आज हम आपके साथ कुछ ऐसे उपाय शेयर कर रहे है जिनको अपनाकर आप भी इस समस्या का समाधान घर पर रहकर ही कर सकते हो।


बालों काले ,लम्बे और झडने से रोकने के लिए घेरेलू उपाय:-------

बाल करने के उपाय:------
बादाम के तेल यानी आमंड ऑइल में नींबू का रस को आधे घंटे तक बालों में लगा रहने दें और फिर बाल धो लें.
यह बाल काले करने का नेचुरल
 तरीका है, जिसमें मौजूद बादाम के तेल में विटामिन E पाया जाता है, जो बालों के लिए बहुत फ़ायदेमंद होता है और बालों को असमय सफ़ेद नहीं होने देता. नींबू के रस से न सिर्फ़ बालों में चमक और वॉल्यूम आता है, बल्कि यह बालों को सेहतमंद बनाकर उन्हें बढ़ाने में मददगार होता है। यह बाल काले करने का नेचुरल
तरीका है। कुछ एक बार इसका
इस्तेमाल करने पर आपको
इसका असर ख़ुद ही नज़र आने लगेगा.
आंवला -------
एक नीबू का रस , दो चम्मच पानी , चार चन्मच पीसा हुआ आवला मिला ले । यदि पेस्ट नहीं बने तो पानी और मिला है । इसे एक घटा भीगने दे और फिर पुरे सिरपर लेप करे। एक घटे बाद सिर धोये ।
यह प्रयोग हर चौथे दिन करे कुछ महीनों में बाल काले हो जायेंगे ।

नीम और बेर:------
बालों को काला करने के लिए नीम और बेर के पते पीसकर पेस्ट बना लें और एक घण्टे भर तक सिर पर लगा रहने दें । तत्पश्चात् सिर धो ले । कुछ समय तक ऐसा करने से बाल काले बने रहते है ।

सुखा आंवला:-----
सूखे आंवले के चुर्ण को नींबू के रस में पीसकर लेप लगाने से बहुत जल्दी बाल काले हो जाते है ।

गुलाब जल और शंख:-----
शंख में रात में जल भर कर रख दे तथा प्रातः काल इस जल में गुलाब जल मिला है । गुलाब जल मिले इस जल से बालों में धीरे - धीरे काले और घने हो जाते हैं ।

शिकाकाई:------
शिकाकाई बालों को पोषण प्रदान करती है तथा बालों की स्वाभाविक चमक को बनाए रखती है । इसके नियमित प्रयोग से बालो को मजबूती और चमक भी बढ जाती है ।

मेहंदी:------
मेंहदी और सूखे आवले को समभाग लेकर कूट - पीसकर कपड छान कर ले । इस पाउडर को पानी के साथ लेप बनाकर बालों में लगाने से बाल काले हो जाते है ।
बालों में काला रंग एक विशेष प्रकार को पदार्थ मेलेनिन के कारण होता है । इसमें प्रोटीन और ताबें की प्रधानता होती है । किसी कारण इनका बनना बंद या कम हो जाए । तो बाल सफेद होने लगते हैं ।

बालों का झड़ना:------
व्यस्क स्त्री - पुरुष के सिर पर बालों की संख्या लगभग डेढ लाख तक होती है । साधारणतया 20-25 बालों का प्रतिदिन झड़ना रोग माना जाता है । दिनचर्या में थोड़ा सुधार अपने खान पान व रहन - सहन पर थोड़ा ध्यान दें । खान - पान में हरी सब्जी , फल खूब खाये दिन में 10-12 गिलास पानी पीएं ।

प्रकृति ने हमें एक सौगात दी है . आवले की जो है बालों के लिए रामबाण  ....
वास्तव में आंवला बालों के लिए एक प्रकृति की अदभुत देन है । बालों के सफेद होने और गिरने से बचाव करने के लिए किसी भी प्रकार के साबुन शेम्पू आदि का प्रयोग न करें ।
हमेशा रिठा और दही से सिर धोएं और जब बाल सूख जाए तो केवल सरसों का तेल डालें इससे हमेशा बाल काले रहेंगे बालों का गिरना कम हो जायेगा।

लहसुन:----
अपने सिर में लहसुन का रस, प्याज का रस या अदरक का रस लगाकर मसाज करें। इस प्रक्रिया को सोने से पहले करे तथा सुबह अच्छी तरह से बालों को धो लें। प्याज के रस में सल्फर की मात्रा होती है, ये टिशु में मौजूद कोलाजेन के उत्पादन को बढ़ावा देते है। प्याज बालों का झड़ना रोकने में बहुत काम आता है।

नींबू:----
एक चम्मच नींबू के रस में 3 चम्मच चीनी दो चम्मच पानी मिलाकर लगाने से बालों का झड़ना बंद हो जाता है।

रूसी के लिए उपाय:-----
टी ट्री ऑयल:----

 टी-ट्री ऑइल में एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल गुण होते हैं. ऐसे में रूसी की समस्या दूर करने का ये एक बहुत ही कारगर उपाय है. अपने शैंपू में इसकी कुछ बूंदें मिलाकर सिर धो लें. चार से पांच बार के इस्तेमाल से ही रूसी की समस्या दूर हो जाएगी.

नीम और तुलसी:----

नीम और तुलसी का पानी नीम और तुलसी की कुछ पत्तियों को पानी में डालकर अच्छी तरह उबाल लें. जब बर्तन का पानी आधा रह जाए तो इसे छान लें और ठंडा होने के लिए रख दें. इस पानी से बालों को धोएं. कुछ बार के इस्तेमाल से ही रूसी की समस्या दूर हो जाएगी.

मुल्तानी मिट्टी:-----

मुल्तानी मिट्टी पाउडर ले लें. इसमें apple cider vinegar मिला लें. बाद में इसे शैंपू की तरह इस्तेमाल करें. सप्ताह में दो बार ये उपाय करना फायदेमंद रहेगा.

एक चम्मच नींबू का रस बालों की जड़ों में लगाकर एक घंटे बाद अच्छे सिर धोने से रूसी दूर हो जाती है ।

रूसी सिर में रूसी ( डेन्ड्रफ) हो जाती है तो प्रायः अनेक उपचारों से जो सूक्ष्म पत्रक चिपके रहते हैं अथवा कपडो पर झड़ते रहते हैं । अनेको उपचारों से यह रोग जड़ से नहीं मिटता,10-15 दिन सिर को रीठे के पानी या शिकाकाई से धोना चाहिये । गिलोय व आंवले का रस प्रतिदिन पीने से बाल झड़ने कम हो जाते हैं ।

बालों को लम्बे करने का उपाय:-----

अमरबेल बूटी 250 ग्राम को 3 किलो पानी में प्रतिदिन रात्रि में उबालें जब पानी आधा रह जाए तब उतार लें। प्रातः इस पानी से सिर धोएं । लगातार 6 माह तक यह प्रयोग करें । बाल इतने लम्बे होंगे कि आप चकित रह जायेंगे और बाल झड़ने भी बन्द हो जायेंगें ।

प्याज का रस व शहद समभाग लेकर बालों में मलकर तदुपरांत स्नान करने से भी बालों का झड़ना रुकता है ।

नीम की पत्तियां पानी में उबाल कर सिर धोने से सिर के सभी खाज खुजली वाले रोग ठीक हो जाते है।

गंजापन के उपाय :-----

नींबू के बीजों पर नींबू निचोड़कर एवं पीसकर बाल उड़े हुई जगह ( गंज ) पर लेप करें। चार - पांच महीने लगातार यह प्रयोग करने से बाल उग आते हैं ।

तीन चम्मच चने के बेसन में एक नींबू का रस , थोड़ा पानी डालकर गाढ़ा घोल बनाकर गंजपर लेप करें तथा सूखने पर घोयें , फिर समान मात्रा में नारियल का तेल , नींबू का रस मिलाकर सिर में लगायें फिर से नये बाल आ जायेंगे ।

चुकंदर के पत्तों को थोड़ी सी कच्ची हल्दी मिलाकर पीसकर जहां पर बाल ज्यादा है उड़ गए हों वहां पर लगाने से नये बाल उग आने की संभावना काफी ज्यादा बढ जाती है

सिर में फुसियां , खुजली , त्वचा सूखी और कठोर हो तो बालों में दही लगाकर दस मिनट बाद सिर धोयें । बाल सूख जाने पर समान मात्रा में नींबू का रस और सरसों का तेल मिलाकर लगायें । यह प्रयोग लम्बे समय तक करे।

टाइफॉइड या किसी भी दवाई के खाने से सिर या किसी स्थान के बाल उड जाते है तो गोमूत्र में तम्बाकू को पीसकर डाल थे । दस दिन के बाद पेस्ट - जैसा बन जाने पर अच्छी तरह रगड़कर बाल - झड़े हुए स्थान पर लगाये तो बाल फिर आ जाते हैं ।

बड़ के ताजा कोमल पत्ते एक किलो , अलसी का तेल ( या असली तिल का तेल ) एक किलो , कडाही में गर्म करें- जब तक कि पते काले पड़ जाएं । तेल को धीरे - धीरे हिलाते रहे । फिर 1 गिलास पानी डालकर , पानी के जल जाने पर कढ़ाही उतार कर तेल ठण्डा होने पर पते को तेल में मसल निचोड़ करके फेंक दे और तेल बोतल में भर लें । इस तेल को सुबह और शाम पूरे सिर की त्वचा में हल्के हल्के मालिश करें। ऐसा करने से कुछ ही दिनों में गंजापन दुर हो जायेगा ।

मुलतानी मिट्टी के पानी से बाल धोने से गंजी जगह में नये बाल आने लग जायेगें ।

अनचाहे बालो को जड से खत्म करने के उपाय:---- 

शंख का चूरा 20 ग्राम , हरताल 10 ग्राम , मैसिल 6 ग्राम , तीनों को पानी में पीसकर लेप करने से बाल उड़ जाते हैं । यदि आप चाहें कि बाल सदा के लिए न उगें तो इस दवा का सारा दिन लगातार लेप करने से फिर बाल कभी नहीं उगेंगे ।

शमी ( छोंकर ) के फल को पीसकर जहां के बाल उड़ाने हों उस स्थान की हजामत बनाकर वहा लेप कर दें तीन दिन इस क्रिया को करें । फिर कभी बाल उत्पन्न नहीं होगें ।

खुरासानी अजवायन और अफीम , दोनों आधा - आधा ग्राम लें । दोनों को असली सिरके में घोट लें और बाल उगनेवाले स्थान पर लेप कर दें , 5-7 बार लेप करने से फिर बाल जीवन भर कभी न उगेंगे ।

मसुर की दाल:------
मसूर की दाल को रात भर भिगोने के बाद उसमें नींबू का रस, शहद, आलू का रस और एक चुटकी हल्‍दी मिला दें। यह एक प्रभावी फेस पैक है जो अनचाहे बालों को हटाने के साथ शेष बालों को ब्‍ली‍च कर देता है।

थुुुुहर का दुुध :------
बालों को साफ करके वहा पर थूहर का दूध लगा देने से फिर कभी भी बाल नहीं उगते 

नागफनी:-------
नगफ़नी (कैक्टस) के दूध को लगाना है।दूध को लगा ने से पहले बाल को चिमटी या किसी भी तरह जड़ से उखड ले। फिर इस नागफनी के दूध को उस जगह पर लगाए। इससे उस जगह फिर बाल नहीं उगता है। अच्छा तो यह होगा की आप पहले वैक्स के द्वारा बालों को साफ कर ले। फिर इसे लगाए। रेज़र से बालों को साफ़ करने पर यह काम नहीं करेगा। दूध को लगाते समय मुंह और आँख को बचा कर रखे।

अजवायन :-------
ग्राम अजवाईन एवं 1/2 ग्राम अफीम को सिरके में घोटकर त्वचा पर लेप करने से अनचाहे बालों को हटाने में फायदा होता है।

50 ग्राम शंख भस्म को 10 ग्राम हरताल तेल में मिलाकर लेप करने से अनचाहे बालों को हटाने में फायदा होता है।

पपीता हल्दी का लेप –

 एक कच्चे पपीता और हल्दी पाउडर का पेस्ट स्थायी रूप से अनचाहे बालों को हटाने के लिए बहुत प्रभावी है।

शहद और नींबू का रस :–------
शहद और नींबू के रस का मिश्रण लाभकारी परिणाम देंगे ,प्रभावित क्षेत्रों पर एक सप्ताह में दो बार इसे लगाए ।

अंडा चीनी और मकई का आटा :---
 सर्वश्रेष्ठ परिणाम पाने के लिए अवांछित बालों के साथ क्षेत्र पर अंडे का सफेद भाग, चीनी और मकई का आटा का पेस्ट लगाए सूखने के बाद इसे  बालो को उखाड़ दे।


All information and articles available on this site are for educational purposes only. The information given here should not be used for diagnosis or treatment of any health related problem or disease without expert advice. A qualified medical practitioner should always be consulted for medical examination and treatment 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ