बवासीर का इलाज |piles |

बवासीर (piles) एक ऐसी समस्या है जो बहुत तकलीफ और परेशान कर देने वाली है। जयादातर यह समस्या बैठकर काम करने वालों और महलिऔ नोरमल डिलीवरी से पैदा हुए बच्चे के बाद बढ जाती है। इस समस्या के होने पर कई बार आप हंसी का पात्र भी बन सकते हो। यह समझना काफी मुश्किल हो जाता है कि असल मे यह समस्या कितनी पीड़ादायक है। इस बीमारी से पीडीत हो जाने के बाद आपके मलत्याग करने वाले स्थान पर मस्से उठ जाते है। इस दौरान जब आप मल त्याग करने जाते हो,तब आपको एक तेज दर्द महसूस होता है। इसके अलावा मलत्याग के दौरान आपको खून भी आ सकता है, बवासीर अंदरूनी या बाहरी दोनों ही प्रकार का हो सकता है। इसलिए इसका इलाज करना बहुत जरूरी वरना यह समस्या पुरानी होने पर कैंसर जैसी भयंकर बिमारी का रूप ले लेती है।

आज हम आपके लिए बहुत सस्ता और घेरेलू इलाज बता रहे है जिसको अपनाकर आप भी घर बैठे इलाज कर सकते
इसका इलाज निंबू और दुध से भी किया जा सकता है और आज हम आपको बताएँगे कि नींबू से बवासीर का इलाज कैसे किया जा सकता है।

निबूं  से बवासीर का इलाज---

बवासीर के इलाज के बारे में जो मात्र 5 रुपये के निम्बू से ही आसानी से किया जा सकता है लेकिन उससे पहले हम आपको बताएँगे बवासीर (Piles) के प्रकारों के बारे में, कि आखिर कितने तरह के होते हैं बवासीर और किस तरह का उपाय कर के इससे निजात पाया जा सकता है।

बवासीर के प्रकार---

खूनी बवासीर-----

खूनी बवासीर आमतौर पर बिना खून वाले बवासीर से ज्यादा कष्ट देने वाला हो सकता है। बता दें कि मलत्याग के दौरान आपके मलत्याग वाले स्थान से खून आने लगता है जिस वजह से शरीर मे खून की कमी भी देखने को मिल सकती है।

बिना खून वाला बवासीर-

इस बवासीर में आपको खून निकलने जैसी समस्या तो नही होती है, लेकिन आपके मलत्याग वाले स्थान पर मस्से उठना शुरू हो जाते है। इस दौरान जब आप मलत्याग करते है तब आपको काफी परेशानी और दर्द का सामना करना पड़ सकता है। मतलब यह भी आपके लिए काफी दर्द भरा हो सकता है।

बवासीर होने के कारण

अगर आपके परिवार में किसी को यह जटिल समस्या है, तो हो सकता है बेड पर रहने के दौरान आपको भी यह बीमारी हो जाये। इसके अलावा गलत खान-पान भी इस बीमारी के होने का मुख्य कारण होता है। अगर आप बाहर का तला हुआ खाना या मसालेदार खाने के शौकीन है, तो यह मुमकिन है कि आप इस समस्या के शिकार हो सकते हैं। इसके अलावा मोटापा, अनुवांशिकता, अधिक वजन उठा, गर्भावस्था और मोटापे जैसे कारणों से भी बवासीर जैसी गंभीर बीमारी हो सकती है।

लक्षण----

1 अधिक दर्द और मलत्याग वाले गुदा पर चोट लगने या हानि पहुँचना

2 मलत्याग वाले स्थान से खून निकलना

3 दर्दनाक मस्से ओर सूजन उठना

4 तेज चुभन ओर खुजली का होना 

बवासीर का घरेलू उपचार----

दूध ओर नींबू मिलाकर सेवन करना---

यह उपचार बवासीर को खत्म करने के लिए काफी फ़ायदेमंद है। सबसे पहले आपको सुबह खाली पेट एक कप दूध लेना है। अगर गाय का दूध है, तो ओर भी ज्यादा अच्छा है। अब आपको एक कप दूध में एक चम्मच नींबू का रस मिलाकर तुरंत ही उसे पी लेना है ,यह इतनी जल्दी पिने की दुध और नींबू बाहर फट ना पाये यह पेट में जाकर ही फटे कयोंकि यह पेट में जाकर एक औषधि बन जाती है। इस उपाय को तब तक दोहराए जब तक आपको फायदा ना पहुंचने लगे।
याद रहे की फ्रीज़ में रखे हुए दूध का उपयोग बिल्कुल भी ना करें। यदि दूध फ्रीज़ में रखा हुआ हैं, तो आप उसे उबाल ले और फिर पंखे के नीचे रख कर ठंडा कर ले। जब दूध पूरी तरह से ठंडा होजाए, तब इसका उपयोग करें। यह मिश्रण आपको सुबह खाली पेट लेना हैं। इस मिश्रण को आप 15 दिन, 1 माह या 3 माह तक ले सकते हैं। अगर आप की बवासीर या भगन्दर की समस्या को बहुत लंबा समय नहीं हुआ हैं। तो आप इस मिश्रण को 10 से 15 दिन ले सकते हैं, आप की ये समस्या जड़ से ख़त्म हो जाएगी।आपको ये मिश्रण उस समय तक लेना हैं, जब तक आप पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाते। ये मिश्रण आप 3 माह तक ले सकते हैं। कितनी भी पुरानी बवासीर या भगन्दर हो 100 % ठीक हो जाएगी। इस तरह आप घर बैठे अपनी बिमारी का इलाज खुद कर सकते हो और अगर इस बिमारी आपका अपना कोई पीडीत हो तो उसे भी इस उपाय को शेयर जरूर करें।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ