सिरदर्द को कैसे ठीक करें | सिरदर्द के लक्षण और निवारण | सिरदर्द के लिए उपाय |

Tittle - सिरदर्द का मुख्य कारण कया है-सिरदर्द कहने को एक छोटी सी पीड़ा है शरीर की, पर कई बार या इतनी असहनीय हो जाती है, कि इंसान इसको सह नहीं सकता। आपको यह जानकर बहुत हैरानी  होगी कि आज के युग में डॉक्टर के पास सबसे ज्यादा मरीज सिर दर्द के आते हैं और शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिसके जीवन में कभी सिर दर्द ना हुआ हो। इसका मुख्य कारण है आज के समय में बढ़ता हुआ तनाव, अधिक सोच विचार इंटरनेट की दुनिया में लगे रहना इत्यादि। इसे हम मानसिक तनाव कहते हैं। यह अधिकतर शाम के समय होता है और कुछ ही देर रहता है और विश्राम करने के बाद यह है कई बार ठीक हो जाता है और कई बार ठीक नहीं भी होता। जहां एक और सीर दर्द मामूली तौर पर दिन में काम की थकान, अधिक सोच विचार की वजह से हो सकता है वहीं दूसरी ओर यह शरीर के किसी बड़े रोग की वजह भी हो सकता है। इसलिए लोगों को सिर दर्द के कारण दूसरों के कारण का भी ज्ञान होना चाहिए। जिससे आप बड़े रोग का शिकार होने से बच सकते हैं । अगर आपको भी सप्ताह में एक बार सिर दर्द होता है इसे अनदेखा न करें तो इसके लिए सिर का चेकअप करवाना बहुत जरूरी है।

सिरदर्द का मुख्य कारण आधा सीसी यानी माइग्रेन सर दर्द बार-बार होता है और यह ज्यादातर सिर के आधे हिस्से में होता है जिसकी शुरुआत बचपन से लेकर युवावस्था में होती है। यह शिकायत महिलाओं में अधिक पाई जाती है। आधा सीसी सिर दर्द ज्यादा सुबह उठने पर शुरू होता है और आधे घंटे में बहुत तेज हो जाता है। यह लगभग 4 से 24 घंटे तक रहता है और सोने पर खत्म हो जाता है यह  यह भूखा रहने धूम्रपान व शराब का प्रयोग करने से बढ़ जाता है । इस बीमारी में सिर दर्द शुरू होने से पहले मरीज की आंखों के सामने खास किस्म का दृष्टिदोष होता है जो 10-20 मिनट तक रहता है और इसके बाद तेज सिरदर्द शुरू हो जाता है । सिरदर्द के बाद जी मिचलाने लगता है और उल्टी भी आ सकती है । उल्टी आने से सिरदर्द में काफी आराम मिलता है। यह बीमारी खतरनाक नहीं है और थोड़ी बहुत दवा लेने से काबू में आ जाती है । 

यह भी पढ़े- हैल्थ चैकअप कब और कैसे करवाये

● सिरदर्द का दुसरा कारण -

दिमाग की रसौली जिसे चिकित्सा - भाषा में सेरब्रिल ट्यूमर कहते है की वजह से भी हो सकता है, परन्तु यह सिरदर्द का आम कारण नहीं है । इसमें मरीज तेज सिरदर्द की वजह से सोते हुए उठ सकता है और यह दर्द दिन में  भी हो सकता है । इसमें दर्द कुछ घण्टे से लेकर कई घण्टों तक रहता है । और यह दिन में कई बार भी हो सकता है । यह दर्द सिर को अचानक हिलाने से खांसने पर और छींकने पर बढ़ता है । जैसे - जैसे रसौली बढ़ती है वैसे - वैसे आधुनिक जीवन शैली का  यह दर्द भी ज्यादा तेज व जल्दी - जल्दी होने लगता है । अगर यह दर्द सिर के आधे हिस्से में होता है तो यह ज्यादातर सिर में रसौली की तरफ ही होता है । इस बीमारी में मरीज को दौरे व उल्टियां भी आ सकती है । इन लक्षणों के होते ही डॉक्टर की सलाह तुरन्त लेनी चाहिए । सिरदर्द आमतौर पर सिर की बीमारियों से ही होता है किन्तु यह सिर के आसपास से भी हो सकता है । 

 निष्कर्ष-

इसलिए अगर आपके सिर में सप्ताह में एक बार सिरदर्द होता है तोवउसको कभी भी अनदेखा न करें क्योंकि बार-बार सिर दर्द होना आम बात नहीं है। इससे पहले आपको कोई गंभीर समस्या हो तो इसके लिए अपने नजदीकी डॉक्टर से जरूर संपर्क करें क्योंकि यह बीमारी देखने में छोटी लगती है कई बार इसके परिणाम भयानक भी होते हैं। स्वास्थ्य ही सबसे बड़ा धन है इंसान के लिए इसलिए अपने स्वास्थ्य का प्रति कभी भी लापरवाही ना बरते।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ