नवरात्रि पर क्या करे और क्या ना करे..

Navratri Special (नवरात्रि स्पेशल)
नवरात्रि का व्रत रखते समय भूलकर भी न करें ये 10 काम, वरना मां दुर्गा नहीं होंगी प्रसन्न

अगर इन नियमों का पालन नहीं किया जाता है तो मां दुर्गा की आराधना में विघ्न उत्पन्न होता है, इससे मां दुर्गा नाराज होती हैं। अगर मां दुर्गा को प्रसन्न करना है तो इस आर्टिकल में बताई गईं बातों को जरूर ध्यान में रखें...

 

नवरात्रि का पावन पर्व नजदीक आ रहा है। मां दुर्गा के कई भक्त इस पर्व को धूम-धाम से मनाने के लिए तैयारियां भी कर रहे हैं, लेकिन एक बात ध्यान देने वाली ये है कि नवरात्रि पर नौ दिनों का व्रत रखते समय कुछ नियमों का पालन भी करना होता है, जिससे मां दुर्गा प्रसन्न होती हैं। अगर इन नियमों का पालन नहीं किया जाता है तो मां दुर्गा की आराधना में विघ्न उत्पन्न होता है, इससे मां दुर्गा नाराज होती हैं। अगर मां दुर्गा को प्रसन्न करना है तो इस आर्टिकल में बताई गईं बातों को जरूर ध्यान में रखें...

1. नवरात्रि में अगर आप घर में अखंड ज्योति जला रहे हैं तो इन दिनों घर खाली छोड़कर कहीं न जाएं। अगर घर से बाहर जाना जरूरी है तो किसी रिश्तेदार या खास परिचित को घर में रहने दें।

2. चालीसा, मंत्र या सप्तशती पढ़ रहे हैं तो पढ़ते हुए बीच में दूसरी बात बोलने या उठने की गलती कतई ना करें। इससे पाठ का फल नकारात्मक शक्तियां ले जाती हैं।  

3. जो लोग व्रत रखते हैं उन्हें विशेष तौर पर इस बात का ध्यान रखना होता है कि नौ दिनों तक नाखून, दाढ़ी-मूंछ और सिर के बाल नहीं कटवाने हैं। ये सारे काम नवरात्रि प्रारंभ होने से पहले ही निपटा लें या फिर नवरात्रि खत्म होने के बाद करें।

4.  व्रत रखने वाले लोगों को चमड़े से बनी चीजें जैसे बेल्ट, चप्पल, जूते या बैग का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

5. व्रत रखने वाले लोगों को नौ दिन तक नींबू नहीं काटना चाहिए। साथ ही खाने में प्याज, लहसुन अन्डा और मांस का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

6. नौ दिन का व्रत रखने वाले लोगों को गंदे और बिना धुले कपड़े नहीं पहनने चाहिए।

7. नौ दिनों तक व्रत में खाने में अनाज और नमक का सेवन नहीं करना चाहिए सिर्फ सेंधा नमक का इस्तेमाल करे

8. पुराणो में इस बात का ज़िक्र है कि नवरात्रि व्रत के दौरान दिन में नहीं सोना चाहिए।

9. पुरुष और महिला दोनों ही इस बात का विशेष ध्यान रखें कि नवरात्रि में व्रत के दौरान शारीरिक संबंध ना बनाएं।

10. व्रत के दौरान भूख मिटाने के लिए कई लोग तंबाकू का सेवन करने लगते हैं जो कि गलत है। ऐसा करने से मां दुर्गा का व्रत सफल नहीं होता है

जितना हो सके लाल रंग के आसन पुष्प वस्त्र का प्रयोग करे क्योकि लाल रंग माँ को बहुत पसंद है ।

सुबह और शाम मां के मंदिर में या अपने घर के मंदिर में दीपक प्रज्जवलित करें। संभव हो तो वहीं बैठकर मां का पाठ करें दुर्गा सप्तसती और दुर्गा चालीसा पढ़े और सुबह शाम आरती जरूर करे।

हर दिन माँ की आरती का थाल सजा कर आरती करे ..।

मां को हर दिन हो सके तो लाल पुष्प माला जरूर चढाएं।

नौ दिन तन और मन से उपवास रखें।

अष्टमी-नवमीं पर विधि विधान से नौ कंजक पूजन करें और उनसे आशीर्वाद जरूर लें।

घर पर आई किसी भी कन्या को खाली हाथ विदा न करें।

नवरात्र काल में माँ दुर्गा के नाम की ज्योति अवश्य जलाए। अखण्ड ज्योत जला सकते है तो उतम है। अन्यथा सुबह शाम ज्योत अवश्य जलाए।

ब्रमचर्य व्रत का पालन करें। संभव हो तो जमीन पर शयन करें ।

नवरात्र काल में नव कन्याओं को अन्तिम नवरात्र में घर बुलाकर भोजन अवश्य कराए। नवरात्रि में नव कन्याओ का पूजन करे और आवभगत करे ।


पढ़े : दुर्गा सप्तशती के सिद्ध चमत्कारी मंत्र

नवरात्रि में कौन से काम नही करे

जहां तक संभव हो नौ दिन उपवास करें। अगर संभव न हो तो लहसुन-प्याज का सेवन न करें।
यह तामसिक भोजन की श्रेणी में आता है।

कैंची का प्रयोग जहां तक हो सके कम से कम करें। दाढी, नाखून व बाल काटना नौ दिन तक बंद रखें।

निंदा, चुगली, लोभ असत्य त्याग कर हर समय मां का गुनगाण करते रहें।

मां के मंदिर में अन्न वाला भोग प्रसाद अर्पित न करे और प्रसाद मिस्री और नारियल जरूर चढाये जो भी काम करे पुरी श्रद्धा और निष्ठा के साथ करे और किसी प्रकार का मन किसी के प्रति देवेश ना रखें तभी माँ दुर्गा प्रसन्न होगी और आपको आशीर्वाद देगी

Happy navratri


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ